Trending News

क्यों जापान ने भारत से मदद की गुहार लगाई

[Edited By: Rajendra]

Friday, 11th September , 2020 12:32 pm

जापान ने कहा कि चीन अपने प्रभाव का विस्तार करने और रणनीतिक वर्चस्व स्थापित करने के लिए कोरोना महामारी का भी उपयोग कर रहा है। यह जापान और इस क्षेत्र के लिए एक बड़ा खतरा है। पूर्वी चीन सागर को लेकर चीन का सभी पड़ोसी देशों के साथ विवाद है। इसे दबाने के लिए चीनी नौसेना क्षेत्र में लगातार युद्धाभ्यास भी कर रही है। जिसके कारण आसपास के देशों को जानबूझकर समुद्र में जाने से रोका जा रहा है।

कोरोना काल में चीन अपने ज्‍यादातर पड़ोसियों के खिलाफ विस्‍तारवाद की नीति अपनाए हुए हैं, जिसको लेकर दुनिया की उस पर कड़ी नजर है। ताइवान, फिलीपिंस, भारत और जापान पूरी तरह से ड्रैगन के खिलाफ मोर्चा खोले हुए हैं। ऐसे में चीन की घुसपैठ से परेशान जापान ने भारत से मदद की गुहार लगाई है।

पूर्वी चीन सागर में चीनी युद्धपोतों की बढ़ती संख्या के साथ जापान ने भारत के साथ सहयोग बढ़ाने का प्रस्ताव दिया है। जापान के रक्षा मंत्री तारो कोनो ने कहा कि चीन जापान की सुरक्षा के लिए एक बड़ा खतरा बन गया था। जापानी विदेश मंत्री का यह बयान ऐसे समय में आया है जब भारत और चीन के बीच तनाव चरम पर है। उन्होंने चीन की विस्तारवादी नीतियों का मुकाबला करने के लिए एक व्यापक क्षेत्रीय तंत्र स्थापित करने के लिए भारत से सिफारिश की है।

उन्होंने कहा कि चीन की क्षमता और इरादे दोनों गलत रास्ते पर हैं, जिससे चीन को अंतरराष्ट्रीय नियमों और मानकों का उल्लंघन करने के लिए कुछ अतिरिक्त कीमत चुकानी पड़ रही है। उन्होंने यह भी कहा कि जापान और अमेरिका अकेले ऐसा नहीं कर सकते। जापानी प्रधानमंत्री के इस्तीफे के बाद कानो के पीएम बनने की उम्मीद है।

Latest News

World News