Trending News

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जो भी राज्य चाहता है कि प्रदेश के प्रवासी कामगार उनके यहां वापस आएं, उन्हें इसकी इजाजत लेनी होगी

[Edited By: Rajendra]

Monday, 25th May , 2020 01:36 pm

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को कहा कि जो भी राज्य चाहता है कि प्रदेश के प्रवासी कामगार उनके यहां वापस आएं, उन्हें राज्य सरकार से इसकी इजाजत लेनी होगी और उन कामगारों के सामाजिक, कानूनी और आर्थिक अधिकार सुनिश्चित करने होंगे। योगी ने इस बात पर दुख जताया कि कोरोना वायरस के कारण लगाए गए लॉकडाउन के दौरान कई राज्यों ने प्रवासी कामगारों का उचित तरीके से ध्यान नहीं रखा। उन्होंने कहा, ''ये कामगार हमारे सबसे बड़े संसाधन हैं और हम उन्हें उत्तर प्रदेश में रोजगार देंगे। राज्य सरकार उन्हें रोजगार मुहैया करवाने के लिए एक आयोग गठित करेगी।''

उन्होंने यह भी कहा कि सभी प्रवासी कामगारों का पंजीयन किया जा रहा है और उनके कौशल का लेखा-जोखा रखा जा रहा है। आयोग के बारे में उन्होंने कहा कि प्रवासी कामगारों के अधिकारों से जुड़े कई कारकों को देखने के लिए यह प्रस्तावित है। उनका शोषण रोकना और उन्हें सामाजिक, आर्थिक तथा कानूनी मदद मुहैया करवाने के लिए आधिकारिक रूपरेखा प्रदान करना इसका काम होगा।

मुख्यमंत्री ने रविवार को कोरोना संक्रमण काल : सजगता से सफलता विषय पर वेबनियर के जरिए यह बात कही। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि कोरोना संकट को जून में काफी हद तक नियंत्रित कर लेंगे। विदेशी निवेश की चर्चा करते हुए सीएम ने कहा कि जर्मनी की लेदर कंपनी ने चीन से आकर आगरा में निवेश की इच्छा दिखाई है। कंपनी 30 लाख जूते हर साल बनाएगी। चीन से सस्ता श्रम हमारे यहां हैं। यूपी में निवेश की व्यापक संभावनाएं दिख रही हैं।

सीएम ने कहा कि हमारे श्रमिकों कामगार में संक्रमण से जूझने की क्षमता है। वह मेहनत कर पसीना बहाता है। इसलिए सक्रंमित होने पर छह सात दिन में कोरोना निगेटिव में आता है, सामान्य लोग 14 से 20 दिन में ठीक होते हैं। जो लोग श्रमिकों के हित में तमाम नारेबाजी करते हैं, उन्होंने इनकी चिंता की होती तो पलायन को रोका जा सकता था। जो लोग इसके लिए जिम्मेदार हैं वह भोगेंगे। अब तक 22 लाख श्रमिक यूपी आ चुके हैं।

किसी जगह पर लोगों की भीड़ जमा न होने देने के लिए मुख्यमंत्री ने पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को निर्देश हैं कि वो पैदल गश्त बढ़ाएं.
उन्होंने सड़क पर होने वाले हादसों को कम करने के लिए भी पुलिस गश्त बढ़ाने के निर्देश दिए हैं.

इसके साथ ही अधिकारियों को इस बात के निर्देश दिए गए हैं कि वो क्वारंटीन सेंटर, कम्युनिटी किचन और कोविड अस्पताल का दौरा करते रहें.

योगी आदित्यनाथ का कहना है कि प्रदेश के लघु, छोटे और मध्यम (MSME) सेक्टर में रोजगार की असीम संभावनाएं मौजूद हैं. उन्होंने उत्तर प्रदेश में माइनिंग सामग्री जैसे बालू, गिट्टी, मौरंग की भरपूर आपूर्ति सुनिश्चित करने के निर्देश देते हुए ऑफिसर्स से कहा कि यह सभी सामग्री उचित और निर्धारित मूल्य पर ही जनता को मिले इसका ध्यान रखा जाए.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बताया कि आज भी हमने प्रदेश की 119 चीनी मिलों को चलाया, 12000 से ज्यादा ईंट के भट्टों का संचालन किया, 2500 से ज्यादा कोल्ड स्टोरेज चलवाए, उन सभी ज़रूरी उद्योगों को हमने चलवाया जो प्रदेश में जरूरी थे.

Latest News

World News