Trending News

उन्नाव: आरोपियों द्वारा जिंदा जलाई गई दुष्कर्म पीड़िता की मौत, अखिलेश और प्रियंका गांधी के बयानों से गर्म हुई 'यूपी की राजनीति'

[Edited By: Gaurav]

Saturday, 7th December , 2019 01:23 pm

यूपी के उन्नाव में गैंगरेप आरोपियों द्वारा जिंदा जलाई गई दुष्कर्म पीड़िता की शनिवार को मौत हो गई. यह मामला यूपी की राजनीति में मुद्दा बनकर उभर चुका है. पूर्व सीएम और सपा प्रमुख अखिलेश यादव और कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ से इस्तीफे की मांग की है. सपा और कांग्रेस का कहना है कि भाजपा की सरकार में महिलाओं के खिलाफ अपराध बढ़ रहे हैं. कानून व्यवस्था पूरी तरह से चौपट हो चुकी है.

जानिए क्या था पूरा मामला

उत्तर प्रदेश के उन्नाव में साथ जीने मरने की कसमें खाकर आरोपी युवक दो साल तक पीड़िता का शारीरिक शोषण करता रहा. पीड़िता ने जब शादी की बात कही तो तीन लाख रुपये का लालच देकर रास्ते से हटने का दबाव बनाया. पीड़ित परिवार नहीं माना तो आरोपित पक्ष ने बिहार थाने की पुलिस से भी दबाव बनवाया. पीड़िता नहीं टूटी और डटकर मुकाबले को तैयारी हो गई. आरोपित को जेल भिजवा दिया. जेल से छूटने पर उसने जान लेने की कोशिश की. इस मामले के सभी पांच आरोपियों के चेहरे सामने आ गए हैं.

18 जनवरी 2018 को रायबरेली कोर्ट में पीड़िता और आरोपित शिवम त्रिवेदी ने शादी के अनुबंध पर हस्ताक्षर किया था. अनुबंध में लिखा गया था कि शादी के बाद वह लड़की का पूरा ख्याल रखेगा. उसे हर्जा, खर्चा देगा. उसके भरण पोषण की जिम्मेदारी शिवम की है. अनुबंध के कुछ दिन बाद ही सारी कसमें टूट गईं. पीड़िता को अकेला छोड़कर शिवम चला गया. फिर क्या था. पीड़िता ने अपना हक मांगा तो उसने धमकी दी. गांव में पंचायत हुई तो शिवम के घरवालों ने पीड़िता पर दबाव बनाया कि रुपये ले लो और शिवम को छोड़ दो. सूत्रों की मानें तो आरोपित परिवार पीड़िता को 3 लाख रुपये हर्जाना देने की बात कर रहे थे. प्रधान के घरवालों का कहना था कि इन रुपयों से दूसरी शादी कर लेना.

पीड़िता ने कहा कि वह शिवम की पत्नी बनकर नहीं रहना चाहती, बल्कि वह सिर्फ बहू होने का हक मांग रही है. शिवम के घरवाले तैयार नहीं थे. पूरे गांव में तमाम लोग दबाव बना रहे थे. पीड़िता रुपये के लालच में नहीं आई और शिवम के साथ रहने की बात पर अड़ी रही. यह बातें आरोपितों को नागवार गुजरी. उन्होंने अधिक दबाव बनाया तो पीड़िता ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया. आरोपित को जेल हुई तो सभी आग बबूला हो गए. मौका पाते ही पीड़िता को रास्ते से हटाने का प्रयास किया.

पीड़िता के चाचा चौकी पहुंचे, बताया आरोपित के रिश्तेदार धमका रहे 

गैंगरेप पीड़िता के चाचा परिवार सहित गंगाघाट कोतवाली के एक मोहल्ले में रहते हैं. शुक्रवार सुबह वह गंगाघाट चौकी पहुंचे और पुलिस को बताया कि आरोपितों के रिश्तेदारों ने घर पहुंचकर केस वापस लेने की धमकी दे रहे हैं. कोतवाली प्रभारी ने इस विषय पर आलाधिकारियों को सूचित किया. इसपर एसडीएम सदर और सीओ सिटी कोतवाली पहुंचे और पीड़िता के चाचा से बात की. पहले उन्होंने बताया कि शुक्रवार को आरोपितों के रिश्तेदार घर आए थे. दोबारा कहा, नहीं रविवार को आए थे. पुलिस लड़की के चाचा और उनकी पत्नी से पूछताछ कर रही है.

पीड़िता की मौत पर उसके भाई ने की बस एक ये मांग

उन्नाव गैंगरेप पीड़िता के भाई ने कहा- मुझे इस मामले पर और कुछ भी नहीं कहना है। मेरी बहन अब मेरे साथ नहीं रही. मेरी सिर्फ एक मांग है जो ये इन पांचों आरोपियों को फांसी होनी चाहिए, उससे कम और कुछ नहीं.

बेटी के गुनहगारों को दौड़ा कर गोली मार दो

उन्नाव दुष्कर्म पीड़ित की मौत के बाद परिवार सदमे में है. पिता ने शनिवार को कहा कि परिवार को एक पैसा नहीं चाहिए. बस, मेरी बेटी को इंसाफ मिले. मौत का बदला सिर्फ मौत होता है. गुनहगारों को बगैर देर किए फांसी मिले या उन्हें दौड़ाकर गोली मार दी जाए. इस बीच, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव विधानसभा के बाहर धरने पर बैठ गए.

Unnao: जमानत पर छूटे गैंगरेप आरोपियों ने पीड़ित लड़की को जिंदा जलाया

Latest News

World News