Trending News

राज्य सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश की

[Edited By: Rajendra]

Saturday, 8th August , 2020 02:29 pm

बॉलीवुड एक्‍टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत मामले में बिहार की नीतीश कुमार सरकार ने केंद्र से सीबीआई जांच की सिफारिश कर दी है। इससे पहले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार की रात सुशांत सिंह राजपूत के चचेरे भाई और बीजेपी विधायक नीरज बबलू से फोन पर बात की थी। दोनों के बीच तकरीबन 10 मिनट तक बात हुई, जिसमें नीतीश कुमार ने सुशांत मामले पर नीरज बबलू से पूरा अपडेट लिया था।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पिछले दिनों कहा था कि यदि इस मामले में एफआईआर दर्ज करने वाले सुशांत सिंह राजपूत के पिता सीबीआई जांच की मांग करते हैं तो राज्य सरकार इस मामले की सीबीआई जांच की सिफारिश कर सकती है। मंगलवार को सुशांत के पिता केके सिंह ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से बात कर सीबीआई जांच की मांग की, जिसके बाद राज्य सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश की।

सुशांत की मौत के मामले मे सीबीआई जांच के लिए हर तरफ से दबाव बढ़ता जा रहा था। पहले सुशांत सिंह राजपूत का परिवार सीबीआई जांच के पक्ष में नहीं था, लेकिन पटना के सिटी एसपी को मुंबई में जबर्दस्ती क्वारेंटाइन किए जाने के बाद सुशांत के परिजन सीबीआई जांच की मांग करने के लिए राजी हुए।

उल्‍लेखनीय है कि 14 जून 2020 को सुशांत सिंह राजपूत अपने बांद्रा स्थित घर पर मृत पाए गए थे। उन्होंने अपने घर में पंखे से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। हालांकि, पुल‍िस को उनके पास कोई सुसाइड नोट नहीं मिला था। इस मामले में मुंबई पुलिस की जांच पहले से जारी है। पुलिस इस मामले में सुशांत के परिवार के सदस्यों, रसोइये, बॉलीवुड हस्तियों संजय लीला भंसाली, फिल्म समीक्षक राजीव मसंद, अभिनेत्री संजना सांघी, उनकी महिला मित्र रिया चक्रवर्ती, कास्टिंग निर्देशक शानू शर्मा, फिल्मकार मुकेश छाबड़ा और यशराज फिल्म के आदित्य चोपड़ा समेत 40 लोगों के बयान दर्ज कर चुकी है।

सुशांत केस की जांच को लेकर बिहार पुलिस और मुंबई पुलिस में टकराव की स्थिति पैदा हो गई थी। सुशांत के पिता द्वारा एफआईआर दर्ज कराने के बाद बिहार पुलिस का चार सदस्यीय जांच दल मुंबई पहुंचा था। इस जांच दल को मुंबई पुलिस ने सहयोग नहीं मिला और उन्होंने केस से जुड़े कोई भी दस्तावेज बिहार पुलिस को उपलब्ध नहीं कराए। इस मामले में जब पटना के सिटी एसपी विनय तिवारी मुंबई पहुंचे, तो बीएमसी ने उन्हें क्वारेंटाइन कर दिया। बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने मुंबई पुलिस पर असहयोग करने का आरोप लगाया था तो मुंबई पुलिस ने भी तय कर लिया था कि वो कोई दस्तावेज बिहार पुलिस को नहीं सौंपेगी।

गिरीश चंद्र मुर्मू ने भारत के नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक कैग के पद की शपथ ग्रहण

Latest News

World News