Trending News

सऊदी अरब ने जारी किया पाकिस्तान का नया नक्शा

[Edited By: Rajendra]

Wednesday, 28th October , 2020 04:22 pm

पाकिस्तान की मुश्किलें कम नहीं हो रही हैं। अब सऊदी अरब ने इमरान खान और उनकी सरकार को तगड़ा झटका दिया है। सऊदी अरब ने पाकिस्तान का नया नक्शा (Pakistan Map) जारी किया है, जिसमें पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के साथ ही गिलगित-बाल्टिस्तान को भारत का हिस्सा दिखाया है। पाक कब्जे वाले कश्मीर में रह रहे एक्टिविस्ट अमजद अयूब ने ट्वीट कर यह जानकारी दी। बताया जा रहा है कि सऊदी अरब द्वारा जारी इस नक्शे को देखकर इमरान खान और उनकी टीम के होश उड़ गए हैं। अमजद ने अपने ट्वीट में यह भी लिखा कि यह सऊदी अरब की ओर से भारत को दिवाली का गिफ्ट है।

सऊदी अरब ने जी-20 शिखर सम्मेलन के लिए जारी विशेष नोट में जी-20 देशों के नक्शे दिए हैं। इनमें पाकिस्तान का जो नक्शा दिया गया है उसमें कश्मीर, गिलगित और बाल्तिस्तान को पाकिस्तान का हिस्सा नहीं दिखाया गया है। पाकिस्तान इस मुद्दे पर अभी तक चुप है। जी-20 शिखर सम्मेलन 21 और 22 नवंबर को रियाद में होना है।

सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस सलमान की अध्यक्षता में होने वाले इस जी-20 सम्मेलन को लेकर सऊदी अरब काफी उत्साहित है। इसी को और यादगार बनाने के लिए सऊदी अरब ने अभी तीन दिन पहले 24 अक्टूबर को 20 रियाल (सऊदी मुद्रा) का एक बैंकनोट जारी किया। इसमें ऊपर की तरफ सऊदी किंग सलमान बिन अब्दुल अजीज का फोटो और एक स्लोगन है। जबकि दूसरे यानी पिछले हिस्से में दुनिया का नक्शा है। इस नक्शे में जी-20 देशों को अलग-अलग रंगों में दिखाया गया है। इसमें कश्मीर के अलावा गिलगित और बाल्तिस्तान को पाकिस्तान का हिस्सा नहीं बताया गया।

इससे पहले भारतीय विदेश मंत्रालय ने सितंबर में कहा था कि उन्होंने 15 नवंबर को होने वाले तथाकथित गिलगित-बाल्टिस्तान विधानसभा के चुनावों के बारे में रिपोर्ट देखी है और इस पर कड़ी आपत्ति ली है।

विदेश मंत्रालय ने कहा, भारत सरकार ने पाकिस्तान सरकार को कड़ा विरोध जताया और दोहराया कि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख, गिलगित और बाल्टिस्तान सहित, भारत का एक अभिन्न हिस्सा हैं।

इमरान खान सरकार ने पहले पाकिस्तान का एक नया राजनीतिक मानचित्र जारी किया, जिसमें दावा किया गया कि वह गुजरात के जूनागढ़, सर क्रीक, जम्मू-कश्मीर और लद्दाख उसके हिस्से हैं। इमरान खान सरकार का यह नक्शा जम्मू कश्मीर में धारा 370 को निरस्त करने के एक साल बाद जारी किया गया था। बहरहाल, सऊदी अरब द्वारा जारी नक्शे पर अभी इमरान खान सरकार की आधिकारिक प्रतिक्रिया नहीं आई है।

गौरतलब है कि हाल के दिनों में सऊदी अरब के साथ ही बाकी अरब देशों के इजरायल के कूटनीतिक रिश्ते सुधर रहे हैं। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ऐलान कर चुके हैं कि पाकिस्तान किसी भी हालत में इज़रायल के साथ कूटनीतिक रिश्ते नहीं बनाएगा।

इस दौरान सऊदी अरब ने भी पाकिस्तान पर शिकंजा कसना शुरु कर दिया है। अभी अगस्त में ही सऊदी सरकार ने पाकिस्तान से सारा कर्ज फौरन वापस करने की मांग रख दी थी। जबकि हकीकत यह है कि पाकिस्तान दिवालिया होने के कगार पर है। अरब देशों से झिड़की खाने के बाद पाकिस्तान चीन और तुर्की के साथ मिलकर नया गुट बनाने की कोशिश कर रहा है। लेकिन भारत के साथ ही अमेरिका, इजराइल और सऊदी अरब इस पर नजर बनाए हुए हैं।

Latest News

World News