Trending News

PHOTOS: रेलवे इंजीनियरों का कमाल, यहां देखिए कबाड़ से बना राफेल विमान

[Edited By: Gaurav]

Monday, 15th July , 2019 12:18 pm

यूपी की राजधानी लखनऊ में इंजीनियरों के एक ग्रुप ने लड़ाकू विमान राफेल जेट  का मॉडल बनाया है। रेलवे लोको वर्कशॉप के इंजीनियरों ने ये राफेल फाइटर जेट का निर्माण किया है जो असली राफेल का एक मॉडल है। खास बात ये है कि इसे कबाड़ के सामानों की मदद से बनाया गया है। जानकारी के मुताबिक ट्रेन इंजन के पुराने स्क्रैप मैटेरियल से करीब 10 फीट लंबा राफेल जेट बनाया गया है। खास बात ये है कि इस मॉडल के इंजन से आवाज भी आती है। असली विमान की तरह लाइटें भी लगाई गई हैं। 

Image result for कबाड़ से बना राफेà¤⊃2;

रेफरेंस के तौर पर इंटरनेट पर मौजूद राफेल की तस्वीरों को देखकर इसे बनाया गया है। आठ लोगों की एक टीम ने इस मॉडल को बनाने में करीब डेढ़ महीने का समय लगाया।

रेलवे लोको वर्कशॉप लखनऊ के मैनेजर विवेक खरे ने बताया कि हमने राफेल फाइटर जेट का मॉडल बनाया है क्योंकि हम राष्ट्रीय महत्व के लिए कुछ महत्वपूर्ण चीज बनाना चाहते थे। वर्कशॉप के कई लोग इस मॉडल को बनाने की प्रक्रिया में शामिल हुए। इससे पहले हमने पीएसएलवी और स्टीम लोको के मॉडल्स बनाए हैं। 

rafale, rafale jet, rafale made from scrap material

इंजिनियरों ने ट्रेन इंजन के पुराने स्क्रैप की मदद से राफेल फाइटर जेट का एक स्केल-डाउन मॉडल तैयार किया है। लोको वर्कशॉप में प्रदर्शनी के लिए लगे इस लड़ाकू विमान के प्रतिरूप से फाइटर प्लेन की आवाज भी आती है। राफेल का यह प्रदर्शनी मॉडल 8 इंजिनियरों की एक टीम ने बनाया है। आम लोगों के लिए यह आकर्षण का खास केंद्र बना हुआ है।

रेलवे लोको वर्कशॉप के इंजिनियरों ने डीजल इंजन से निकली पत्तियों के स्क्रैप की मदद से राफेल का 10 फीट लंबा मॉडल बनाया है। इसके लिए उन्होंने इंटरनेट पर मौजूद इस खास लड़ाकू विमान के चित्रों की मदद ली है। रेलवे लोको वर्कशॉप के प्रबंधक ने विवेक खरे बताया कि उन्होंने राफेल की तस्वीरों को ही स्टडी करके इसे तैयार किया है और इसके डायमेंशन को मैच कराने की कोशिश भी की है। उन्होंने कहा, 'हम राष्ट्रीय महत्व की कोई चीज बनाना चाहते थे।

rafale, rafale jet, rafale made from scrap material

खरे ने बताया कि इससे पहले भी उन लोगों ने पीएसएलवी और स्टीम लोको के मॉडल बनाए हैं। गौरतलब है कि प्रदर्शनी के लिए लगे 10 फीट के इस राफेल को बनाने में इंजिनियरों को डेढ़ महीने लगे। विमान प्रतिरूप में उड़ान भरते समय जेट से आने वाली आवाज भी सुनाई देती है।

इसके अलावा इसमें असली विमान की तरह लाइटें भी लगाई गई हैं। इंजिनियरों ने इसे बनाने के लिए सबसे पहले इंटरनेट पर राफेल के मॉडल का चित्र तलाशा और फिर उसकी स्टडी कर यह शानदार मॉडल तैयार किया है।

Latest News

World News