Trending News

जानिए दुनिया की सबसे बड़ी अखंड संरचना-एलोरा में कैलाश मंदिर के रोचक तथ्यों के बारे में

[Edited By: Gaurav]

Friday, 14th June , 2019 05:11 pm

इसे आधिकारिक तौर पर दुनिया के सर्वश्रेष्ठ आश्चर्यों में से एक के रूप में घोषित नहीं किया जा सकता, लेकिन एलोरा में कैलाश मंदिर की महानता को कोई भी नकार नहीं सकता है। महाराष्ट्र के औरंगाबाद शहर से लगभग 30 किमी दूर स्थित एलोरा का रॉक-गुफा मंदिर दुनिया की सबसे बड़ी अखंड संरचना है। ऐसा माना जाता है कि एलोरा के कैलाश मंदिर में उत्तरी कर्नाटक के विरुपाक्ष मंदिर से समानताएं हैं।

कैलाश मंदिर सोलहवीं गुफा है और यह 32 गुफा मंदिरों और मठों में से एक है जो भव्य एलोरा गुफाओं का निर्माण करता है। ऐतिहासिक अभिलेखों के अनुसार, यह 8 वीं शताब्दी के राष्ट्रकूट राजा कृष्ण प्रथम द्वारा 756 और 773 ईस्वी के बीच बनाया गया था। इसके अलावा, गैर-राष्ट्रकूट शैली के मंदिर पास-पास स्थित पल्लव और चालुक्य कलाकारों की भागीदारी को दर्शाता है।

एलोरा में कैलाश मंदिर के बारे में कुछ तथ्य...

एलोरा में कैलाश मंदिर राष्ट्रकूट वंश द्वारा भगवान शिव के लिए एक मंदिर के रूप में बनाया गया था। शायद, यह शिव के रहस्यमय निवास स्थान कैलाश पर्वत का एक दृश्य था। कैलाश मंदिर एक स्टैंडअलोन, बहुमंजिला मंदिर परिसर है, जिसे कैलाश पर्वत की तरह बनाया गया है। जो भगवान शिव का पौराणिक घर है। मुगल शासक औरंगजेब ने कैलाश मंदिर में तोड़फोड़ करने का एक मजबूत प्रयास किया था, लेकिन वह अपनी योजनाओं में ज्यादा सफल नहीं हो पाया था। वो जो कुछ कर सकता था,  यहां-वहां की एक मामूली क्षति थी, लेकिन मुख्य संरचना को कोई असर नहीं पड़ा। 

रॉक मंदिर (कैलाश मंदिर) को यू आकार में लगभग 50 मीटर नीचे काटा गया था और इसे आकार देने के लिए लगभग 2, 00,000 टन चट्टान को हटाया गया था। पुरातत्वविदों ने गणना की थी कि मंदिर के निर्माण को पूरा करने में सौ साल से अधिक का समय लगा होगा। हालांकि, वास्तव में इसे पूरा करने में केवल 18 साल लगे। दिलचस्प है आधुनिक युग के इंजीनियरों को 18 साल में आधुनिक तकनीक का उपयोग करके उसी मंदिर को खत्म करना असंभव लगता है। 

Latest News

World News