Trending News

ईरान ने शनिवार को कबूला कि उसकी सेना ने गलती से यूक्रेन के यात्री विमान को निशाना बना दिया

[Edited By: Rajendra]

Monday, 13th January , 2020 03:36 pm

ईरान ने शनिवार को कबूला कि उसकी सेना ने गलती से यूक्रेन के यात्री विमान को निशाना बना दिया। सरकार की तरफ से जारी बयान में इसे मानवीय भूल बताया गया। गुरुवार को कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो और ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन ने खुफिया सूत्रों के हवाले से दावा किया था कि विमान ईरान की मिसाइल टकराने से ही दुर्घटनाग्रस्त हुआ। ईरान ने पहले दोनों नेताओं से इन दावों के सबूत सौंपने के लिए कहा,

ईरान के विदेश मंत्री जावेद जरीफ ने कहा, “यह अमेरिका के दुस्साहस की वजह से हुआ। सेना ने बयान में कहा है कि उसे अमेरिका की तरफ से संवेदनशील रक्षा क्षेत्रों और अन्य ठिकानों पर हमले की जानकारी मिली थी। इसकी वजह से हमारी एंटी-एयरक्राफ्ट यूनिट्स ने ज्यादा संवेदनशील तरीका अपनाया।

ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने सेना के कबूलनामे के बाद ट्वीट में कहा, “सेना की आतंरिक जांच में सामने आया है कि मानवीय भूल के चलते मिसाइल हमले में यूक्रेन का विमान क्रैश हुआ। ईरान इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना पर गहरा दुख व्यक्त करता है। मृतकों के परिजनों के प्रति मेरी संवेदना।

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो और ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने भी कहा कि इस बात के कई सबूत हैं कि यूक्रेन एयरलाइन का विमान ईरान की जमीन से हवा में मार करने वाली मिसाइल से टकराकर गिरा था। उन्होंने कहा, “हो सकता है कि यह गलती से हुआ हो। इससे पहले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने गुरुवार को अफसरों के साथ बैठक में आशंका जताई थी कि यूक्रेन का बोइंग-737 ईरानी मिसाइल लगने से ही गिरा है। बैठक में अधिकारियों ने कहा था कि ईरान ने गलती से यात्री विमान पर रूस में बनी दो मिसाइलों से हमला किया।

यूक्रेन इंटरनेशनल एयरलाइंस (यूआईए) ने हादसे के ठीक बाद ही इसके पीछे तकनीकी खामी को वजह मानने से इनकार कर दिया था। पायलटों के पास किसी भी आपातकालीन चुनौती से निपटने की क्षमता थी। हमारे रिकॉर्ड्स बताते हैं कि विमान 2400 फीट की ऊंचाई पर उड़ रहा था। क्रू के अनुभव के लिहाज से गड़बड़ी काफी छोटी रही होगी। हम तो उसे महज इत्तेफाक भी नहीं मान सकते।”

 

 

Latest News

World News