Trending News

पीएम ने आवास पर जाकर सुषमा को दी श्रद्धांजलि, उन्होंने आख़िरी बार इस वकील से फोन पर कही ''दिल की बात''

[Edited By: Admin]

Wednesday, 7th August , 2019 12:21 pm

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री सुषमा स्वराज के आवास पर जाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी. भावुक दिख रहे मोदी ने स्वराज के परिवार के सदस्यों को सांत्वना दी. आधिकारिक सूत्रों ने न्यूज एजेंसी भाषा को बताया कि प्रधानमंत्री शाम को स्वराज के अंतिम संस्कार में भी शामिल होंगे. स्वराज के निधन पर शोक प्रस्ताव पारित करने के लिए बुधवार को केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक भी बुलाई जा सकती है.

दिल्ली में अपने घर पर कार्डिएक अरेस्ट के बाद सुषमा स्वराज को एम्स अस्पताल ले जाया गया. लेकिन सुषमा को बचाया नहीं जा सका.

मौत से कुछ घंटे पहले सुषमा स्वराज का शाम साढ़े सात बजे किया ट्वीट सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है.

ट्विटर

इस ट्वीट में सुषमा ने अनुच्छेद 370 के संदर्भ में लिखा था, ''प्रधानमंत्री जी, आपका हार्दिक अभिनंदन. मैं अपने जीवन में इस दिन को देखने की प्रतीक्षा कर रही थी.''

इस ट्वीट और सुषमा के निधन की ख़बरों के बीच वक़्त के बेहद कम फासले पर लोग हैरानी और निराशा जता रहे हैं.

दुख जताने वाले लोगों में अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में कुलभूषण जाधव का केस लड़ने वाले हरीश साल्वे भी शामिल हैं.

हरीश साल्वे का कहना है कि मंगलवार रात 8.45 बजे उनकी सुषमा स्वराज से फ़ोन पर बात हुई थी. 

हरीश साल्वे ने न्यूज़ चैनल 'टाइम्स नाऊ' को दिए इंटरव्यू में इस बारे में कई बातें बताई हैं.

हरीश साल्वे ने कहा, ''मैं बेहद हैरान हूं. मैंने मंगलवार रात 8.45 पर सुषमा जी से फ़ोन पर बात की थी. उनकी तबीयत ठीक लग रही थी. अब जब सुषमा जी के न रहने की ख़बर आई तो मैं स्तब्ध हूं. उनका जाना पूरे देश का नुकसान है. ख़ासतौर पर मेरा निजी नुकसान है.''

''मेरी सुषमा जी से 8.50 के क़रीब जब बात हुई तो ये बेहद इमोशनल बातचीत थी. उन्होंने मुझसे कहा कि तुम आओ और मुझसे मिलो. मैं तुम्हें कुलभूषण जाधव केस की फ़ीस के एक रुपये दूंगी. उन्होंने कहा कि कल छह बजे आओ.''

साल्वे ने सुषमा के निधन पर दुख जताते हुए कहा, ''वो बेहद खुश थीं. वो एक कमाल की नेता थीं. मैं क्या ही बोलूं. मुझे ऐसा लग रहा है कि मेरी बड़ी बहन नहीं रहीं.''

कुलभूषण जाधव का कितने रुपये में केस लड़े थे साल्वे?

वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे ने एक रुपये की फ़ीस लेकर कुलभूषण जाधव मामले में अंतरराष्ट्रीय कोर्ट में भारत का पक्ष रखा था.

हालांकि जब नीदरलैंड्स की द हेग स्थित अंतरराष्ट्रीय अदालत ने फांसी पर रोक जारी रखते हुए पाकिस्तान से इस पर फिर से विचार करने को कहा था, तब फ़ीस के बारे में हरीश साल्वे ने बीबीसी से बात की थी.

हरीश साल्वे ने कहा था कि उन्हें फ़ीस के एक रुपये अब तक नहीं मिले हैं.

साल्वे ने 18 जुलाई को बीबीसी हिंदी से हंसते हुए कहा था, ''अभी तक तो मुझे फ़ीस के एक रुपये नहीं मिले हैं. सुषमा जी से फ़ोन पर बात हुई है. उन्होंने कहा है कि इंडिया आओगे तो ले लेना अपने एक रुपये.''

साल्वे कहते हैं, ''भगवान के आशीर्वाद से अच्छे ख़ासे क्लाइंट मिल जाते हैं, कुलभूषण का केस मैंने एक अच्छे मक़सद से लड़ा है.''

Latest News

World News