Trending News

B'dy Spcl: जानिए राष्ट्रीय राजनीति में 'मोदी युग' की शुरुआत का कारण, 10 घटनाओं ने बदली पीएम नरेंद्र मोदी की जिंदगी

[Edited By: Admin]

Tuesday, 17th September , 2019 12:40 pm

पीएम नरेंद्र मोदी का मंगलवार यानि 17 सितंबर को 69वां जन्मदिन है। पीएम मोदी आज अपना 69वां बर्थडे अहमदाबाद में मना रहे हैं। पीएम मोदी अपने जन्मदिन पर मां हीराबेन से आशीर्वाद लेकर अपने दिन की शुरुआत करेंगे।

नरेंद्र दामोदरदास मोदी का जन्म 17 सितंबर 1950 को गुजरात के वडनगर में हुआ था। उनके पिता दामोदरदास मूलचंद मोदी चाय बेचते थे और नरेंद्र मोदी भी इस काम में उनकी मदद किया करते थे। एक मीडिया इंटरव्यू के दौरान मोदी ने कहा था कि उन दिनों भी कभी मेरा फिल्में देखने में मनोरंजन की दृष्टि से झुकाव नहीं था। इसके बजाय मैं फिल्मों में जीवन से जुड़ी सीखों को ढूंढता था। मुझे याद है कि एक बार मैं अपने मित्रों और अध्यापकों के साथ मशहूर हिंदी फिल्म गाइड देखने गया, जो आरके नारायण के एक उपन्यास पर आधारित थी।'
मोदी बताते हैं कि 'फिल्म के बाद मैं दोस्तों के साथ एक गहरी बहस में पड़ गया। मेरा तर्क था कि फिल्म का मूल विषय यह था की अंत में प्रत्येक व्यक्ति को अपनी अंतरात्मा से मार्गदर्शन मिलता है। लेकिन क्योंकि मैं उम्र में छोटा था, मेरे दोस्तों ने मुझे गंभीरता से नहीं लिया।'

Image result for narendra modi


गाइड फिल्म ने उनके ऊपर एक और छाप छोड़ी। वह थी सूखे की सच्चाई और पानी की कमी से किसानों में दिखने वाली निरीहता। बाद में जब उन्हें मौका मिला, तो उन्होंने गुजरात में अपने कार्यकाल का एक बड़ा भाग जल संचय प्रणाली को एक संस्थागत रूप देने में लगाया। यह एक ऐसी परियोजना है जिसे वे प्रधानमंत्री के रूप में अब राष्ट्र स्तर पर भी लेकर आए हैं।' आगे जानें कौन सा गाना है पीएम मोदी के दिल के करीब?
जैसे-जैसे जैसे मोदी अपने कार्य में डूबते गए, उनके निर्वाचित कार्यालय की जिम्मेदारी ही उनकी प्राथमिकता होती गई। फिल्में देखने जैसा आराम उनसे दूर होता गया। फिर भी वह कला, संस्कृति और सिनेमा की दुनिया से लगातार जुड़े रहे।

Image result for narendra modi


जब मोदी से पूछा गया कि क्या उनका कोई मनपसंद गीत भी है? इस सवाल पर उन्हें तुरंत 1961 की फिल्म 'जय चित्तौड़' में लता मंगेशकर द्वारा गाया गीत याद आया - 'हो पवन वेग से उड़ने वाले घोड़े....।' भरत व्यास के बोल और एसएन त्रिपाठी का मधुर संगीत। ये मोदी का प्रिय गीत रहा है-


'तेरे कंधों पे आज भार है मेवाड़ का,
करना पड़ेगा तुझे सामना पहाड़ का...
हल्दीघाटी नहीं है काम कोई खिलवाड़ का,
देना जवाब वहां शेरों के दहाड़ का...'

Related image

पीएम मोदी के ये 10 कोट्स बदल सकते हैं आपकी जिंदगी...

  • 'हम सब को हमेशा एक सपना जरूर देखना चाहिए।'
    - 'व्यक्ति को कुछ बनने के बजाय कुछ करने के लिए प्रेरित होना चाहिए।'
    - 'युवाओं में क्षमता की कमी नहीं है। हम जानते हैं कि ये वो ताकत है जो राष्ट्र को तेजी से बदल सकती है।'
    - 'हमें को कभी भी अपने भीतर के छात्र को मरने नहीं देना चाहिए, जो हमें आगे बढ़ने और जीने की अद्धभुत ताकत प्रदान करता है।'
    - 'शिक्षा एक व्यापक क्षेत्र है, जो सिर्फ किताबों से नहीं प्राप्त की जा सकती है। शिक्षा न केवल स्कूली ज्ञान के लिए है। बल्कि शिक्षा व्यक्तित्व के संतुलन विकास का भी एक महत्वपूर्ण अंग है।'
    - 'इंसान जन्म के बाद किसी न किसी मकसद को पाना चाहता है और शिक्षा ही उसके इस लक्ष्य को पूरा कर सकती है।'
    - 'जीवन में ध्यान केंद्रित करना बहुत जरूरी है। यदि आप किसी चीज या विषय पर फोकस करना चाहते हैं, तो सिर्फ फोकस नहीं बल्कि डी-फोकस करना होगा। इसके लिए मनोरंजन, प्रकृति के संपर्क में रहना और खेलना भी महत्वपूर्ण है।'
    - 'युवाओं से निवेदन करता हूं कि जब युवा ये सोचते हैं कि मुझे क्या बनना या क्या करना है, तो आप एक कैदी बन जाते हैं। आपको बस कुछ करने की इच्छा होनी चाहिए। जीवन में आजादी का आनंद लें, क्योंकि यही आपको एक उद्देश्य देगा।'

Related image

पीएम नरेंद्र मोदी के जीवन की 10 बड़ी घटनाएं....

  1. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की सदस्यता -  नरेंद्र मोदी का परिवार काफी गरीब था. बचपन में उनका पूरा परिवार छोटे से एक घर में रहता था. उनके पिता रेलवे स्टेशन पर चाय बेचते थे. पिता का हाथ बंटाते हुए नरेंद्र मोदी ने कई साल स्‍टेशन पर चाय बेची. पीएम मोदी एक अच्छे छात्र भी रहे. उनके स्कूल के साथी नरेंद्र मोदी को एक मेहनती छात्र बताते हैं और कहते हैं कि वह स्कूल के दिनों से ही बहस करने में माहिर थे. वो काफी समय पुस्तकालय में बिताते थे. पीएम मोदी को बचपन में तैराकी का भी शौक था. नरेंद्र मोदी वडनगर के भगवताचार्य नारायणाचार्य स्कूल में पढ़ते थे. बचपन में पीएम मोदी का सपना भारतीय सेना में जाकर देश की सेवा करने का था, हालांकि उनके परिजन उनके इस विचार के सख्त खिलाफ थे. नरेंद्र मोदी जामनगर के पास स्थित सैनिक स्कूल में पढ़ने के बेहद इच्छुक थे, लेकिन जब फीस चुकाने की बात आई तो घर पर पैसों की कमी आड़े आ गई. उनका सपना, सपना रह गया.  बचपन से ही वह संघ यानी RSS की साखा में जाते रहते थे. गुजरात में आरएसएस का मजबूत आधार भी था. वे 1967 में 17 साल की उम्र में अहमदाबाद पहुंचे और उसी साल उन्होंने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की सदस्यता ली. बाद में वे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक बने.
  2. बीजेपी ईकाई में शामिल हुए-1974 में वे नव निर्माण आंदोलन में शामिल हुए. सक्रिय राजनीति में आने से पहले मोदी कई वर्षों तक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक रहे. इसके बाद 1980 के दशक में वह गुजरात की बीजेपी ईकाई में शामिल हुए. 1988-89 में भारतीय जनता पार्टी की गुजरात ईकाई के महासचिव बनाए गए. नरेंद्र मोदी ने लाल कृष्ण आडवाणी की 1990 की सोमनाथ-अयोध्या रथ यात्रा के आयोजन में अहम भूमिका अदा की. साल 1995 में उन्हें पार्टी ने और ज्यादा जिम्मेदारी दी. उन्हें भारतीय जनता पार्टी का राष्ट्रीय सचिव और पांच राज्यों का पार्टी प्रभारी बनाया गया.
  3. गुजरात के मुख्यमंत्री पद की शपथ- 1998 में उन्हें महासचिव (संगठन) बनाया गया. इस पद पर वो अक्‍टूबर 2001 तक रहे. लेकिन 2001 में केशुभाई पटेल को मुख्यमंत्री पद से हटाने के बाद मोदी को गुजरात की कमान सौंपी गई. 2001 में मुख्यमंत्री की पद संभाली तो सत्ता संभालने के 5 महीने बाद ही गोधरा कांड हुआ. इस कांड में कई हिंदू कारसेवक मारे गए. इसके बाद फरवरी 2002 में ही गुजरात में दंगे भड़क उठे. इस दंगे में सैकड़ों लोग मारे गए.
  4. गुजरात दंगा और संगीन आरोप-  दंगों को लेकर तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने गुजरात का दौरा किया, तो उन्होंनें उन्हें 'राजधर्म निभाने' की सलाह दी. गुजरात दंगो में पीएम मोदी पर कई संगीन आरोप लगे. उन्हें मुख्यमंत्री के पद से हटाने की बात होने लगी. जब नरेंद्र मोदी को सीएम पद से हटाने की बात चली तो तत्कालीन उप-प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी उनके समर्थन में आए और वह राज्य के मुख्यमंत्री बने रहे. बता दें पीएम मोदी के खिलाफ दंगों से संबंधित कोई आरोप किसी कोर्ट में सिद्ध नहीं हुए. दिसंबर 2002 के विधानसभा चुनावों में पीएम मोदी ने जीत दर्ज की थी. इसके बाद 2007 के विधानसभा चुनावों में और फिर 2012 में भी नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बीजेपी गुजरात विधानसभा चुनावों में जीती. 2009 के लोकसभा चुनाव बीजेपी ने लालकृष्ण आडवाणी को आगे रखकर लड़ा था, लेकिन यूपीए के हाथों शिकस्त झेलने के बाद आडवाणी का कद पार्टी में घटने लगा. जब 2012 में लगातार तीसरी बार नरेंद्र मोदी ने विधानसभा चुनाव में जीत हासिल की, तब तक ये माना जाने लगा था कि अब मोदी राष्ट्रीय राजनीति में प्रवेश करेंगे. ऐसा ही हुआ भी जब मार्च 2013 में नरेंद्र मोदी को बीजेपी संसदीय बोर्ड में नियुक्त किया गया और सेंट्रल इलेक्शन कैंपेन कमिटी का चेयरमैन बनाया गया.
  5. राष्ट्रीय राजनीति में 'मोदी युग' की शुरुआत- वो एकमात्र ऐसे पदासीन मुख्यमंत्री थे, जिसे संसदीय बोर्ड में शामिल किया गया था. ये साफ तौर पर संकेत था कि अब मोदी ही अगले लोकसभा चुनावों में पार्टी का मुख्य चेहरा होंगे. साल 2014 में नरेंद्र मोदी के चेहरे पर भारतीय जनता पार्टी ने चुनाव लड़ा और यहीं से राष्ट्रीय राजनीति में 'मोदी युग' की शुरुआत हुई. नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बीजेपी प्रचंड बहुमत के साथ सत्ता में आई. बीजेपी ने अकेले दम पर 282 सीटों पर जीत दर्ज की.
  6. 14वें प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ - एक प्रत्याशी के रूप में पीएम मोदी ने देश की दो लोकसभा सीटों वाराणसी और वडोदरा से चुनाव लड़ा और दोनों निर्वाचन क्षेत्रों से विजयी हुए. नरेन्द्र मोदी ने 26 मई 2014 को भारत के 14वें प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ ली. इसके बाद अगले पांच साल तक पीएम मोदी ने अपने कार्यकाल में एक के बाद एक कई महत्वपूर्ण फैसले लिए. पीएम मोदी की लोकप्रियता हर दिन के साथ बढ़ती गई. साल 2019 के लोकसभा चुनाव में सबसे बड़ा सवाल था कि क्या पीएम मोदी एक बार फिर अपना जादू दोहरा पाएंगे. नतीजे जब आए तो देश ने एकतरफा बीजेपी के खाते में वोट किया और इस बार भी पीएम मोदी के चेहरे पर NDA की ऐतिहासिक जीत हुई.
  7. बीजेपी की सबसे बड़ी जीत- 2019 लोकसभा चुनाव की जीत 2014 से काफी बड़ी थी. इस चुनाव में बीजेपी ने 303 सीटों पर जीत दर्ज की. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को रूस ने सर्वोच्च राष्ट्रीय सम्मान ऑर्डर ऑफ सेंट एंड्रयू द एपोस्टले सम्मान के लिए चुना है। पीएम मोदी को यह अवॉर्ड भारत और रूस के बीच द्विपक्षीय संबंधों को प्रोत्साहित करने में उत्कृष्ठ योगदान के लिये चुना गया.आर्डर आफ द सेंट एंड्रू द एपोस्टल विज्ञान, संस्कृति और कला के क्षेत्र में काम करने वाले लोगों, शख्सियतों को रूस की समृद्धि और गौरव को प्रोत्साहित करने के लिये उनके उत्कृष्ठ कार्यो के लिये प्रदान किया जाता है । यह सम्मान उत्कृष्ठ कार्य करने वाले विदेशी शासनाध्यक्षों को भी प्रदान किया जाता है। यह सम्मान पहले चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग, कजाख्स्तान के राष्ट्रपति नुरसुल्तान नजरवायेव तथा अजरबैजान के राष्ट्रपति ग्येदार एलियेव को प्रदान किया जा चुका है।
  8. अंतर्राष्ट्रीय सम्मानों की बारिश- साल 1998 से लेकर जून 2018 तक यह अवॉर्ड सिर्फ 18 लोगों को दिया गया है, जिनमें हथियारों के डिजाइनर मिखाइल कलाश्निकोव, लेखक अलेगजेंडर सोलजेझेनिटिज्न, कोरियोग्राफर ग्रीगोरोविच और पूर्व सोवियत संघ के राष्ट्र राष्ट्रपति मिखाइल गोर्बाचेव शामिल हैं। १२ अप्रैल को रूस ने इस अवार्ड का एलान किया था. बिल मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन की तरफ से स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत करने के लिए पीएम मोदी को पुरस्कार से नवाजा जाएगा. अमेरिका यात्रा के दौरान उनको यह पुरस्कार प्रदान किया जाएगा. सितंबर के आखिरी हफ्ते में पीएम मोदी यूएस जा सकते हैं. 24 अगस्त 2019  को बहरीन के राजा के साथ मुलाकात के दौरान पीएम मोदी को द किंग हमाद ऑर्डर ऑफ द रेनसां(The King Hamad Order of the Renaissance) से सम्मानित किया गया।पीएम मोदी ने बहरीन की ओर से यह सम्मान मिलने के बाद कहा, 'मैं द किंग हमाद ऑर्डर ऑफ द रेनसां से सम्मानित होने से खुद को सम्मानित और सौभाग्यशाली महसूस कर रहा हूं। उन्होंने कहा की यह पूरे भारत के लिए सम्मान की बात है। यह बहरीन और भारत के बीच घनिष्ठ और मैत्रीपूर्ण संबंधों का प्रतीक है।' 8 June 2019 को मालदीव के सबसे बड़े नागरिक सम्मान "निशान-इज्जुद्दीन" (Nishan Izzuddeen) से नवाजा गया .यह सम्‍मान गणमान्‍य विदेशी व्‍यक्‍तियों को दिया जाता है. ये मालदीव का सबसे बड़ा सम्मान माना जाता है
  9. भारतीय और वैश्विक अर्थव्यवस्था- 12 April 2019 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को रूस ने अपना सर्वोच्च नागरिक सम्मान- सेंट एंड्रयू अवॉर्ड से सम्मानित किया था. इसकी मंजूरी रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने भी दी थी. ये सम्मान उन्हें भारत और रूस के रिश्तों को मजबूत और विशेष रणनीतिक साझेदारी को बढ़ावा देने के लिए दिया गया है.4 April 2019 संयुक्त अरब अमीरात (UAE) ने सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार जायेद मेडल दिया था. यूएई के क्राउन प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान ने कहा था "भारत के साथ हमारे ऐतिहासिक और व्यापक रणनीतिक संबंध हैं, जो मेरे प्रिय मित्र प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की महत्वपूर्ण भूमिका से मजबूत हुए हैं, जिन्होंने इन संबंधों को बड़ा बढ़ावा दिया है. उनके प्रयासों को प्रोत्साहित करने के लिए यूएई के राष्ट्रपति उन्हें जायद मेडल से सम्मानित किया है." यूएई के संस्थापक पिता शेख जायद बिन सुल्तान अल नाहयान के नाम पर यह देश हर साल ‘ऑर्डर ऑफ जायद’ सम्मान देता है।feb 2019  दक्षिण कोरिया ने सियोल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया था. वह यह सम्मान हासिल करने वाले पहले भारतीय और दुनिया की 14वीं शख्सियत हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सियोल पुरस्कार समिति ने भारतीय और वैश्विक अर्थव्यवस्था के विकास में उनके योगदान को मान्यता देते हुए और अमीर और गरीब के बीच सामाजिक और आर्थिक विषमता को कम करने के लिए उनकी विशिष्ट आर्थिक नीतियां मोदीनॉमिक्स को श्रेय देते और भारतीय अर्थव्यवस्था की वृद्धि, विश्व शांति, मानव विकास में सुधार और भारत में लोकतंत्र को मजबूत करने के लिए दिया गया था.
  10. प्रभावित करने वाले भाषण- October 2018 चैंपियंस ऑफ अर्थ अवॉर्डः पर्यावरण के क्षेत्र में ऐतिहासिक कदम उठाने के लिए संयुक्त राष्ट्र (UN) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को "चैंपियंस ऑफ अर्थ" के खिताब से सम्मानित किया था. पीएम मोदी के अलावा ये अवॉर्ड फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैंक्रो को भी दिया गया था. बता दें, मोदी को ये अवॉर्ड पिछले साल अक्टूबर महीने में दिया गया था.4 June 2016ः आमिर अमानुल्लाह खान अवार्ड---साल 2016 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अफगानिस्तान का दौरा किया था. जहां अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने मोदी को अफगानिस्तान के सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'आमिर अमानुल्लाह खान' से नवाजा था. 10 February 2018 को पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi)के फिलीस्तीन में ग्रैंड कॉलर सम्मान से नवाजा जा चुका है. यह विदेशी मेहमानों को दिया जाने वाला फिलीस्तीन का सर्वश्रेष्ठ सम्मान है. जनवरी 2019 में फिलिप कोटलर प्रेसिडेंशियल अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था. बता दें, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उत्कृष्ट नेतृत्व और भारत के प्रति निस्वार्थ सेवा के लिए प्रथम फिलिप कोटलर प्रेसिडेंशियल अवॉर्ड के लिए चुना गया था. 3 April 2016 को पीएम मोदी को संयुक्त अरब अमीरात (UAE) का सबसे बड़ा नागरिक सम्मान दिया गया था. यूएई के इस सबसे खास सम्मान से अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा, ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरुन, रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे और इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो को सम्मानित किया जा चुका है. अमेरिका में 29 सितंबर 2014 को मेडिसन स्क्वायर (Madison Square) और 27 सितंबर 2015 को सिलिकॉन वैली (Silicon Valley) में अपना जलवा दिखा चुके पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi)(PM Narendra Modi)अब 22 सितंबर को ह्यूस्टन में 50 हजार से ज्यादा लोगों को संबोधित करेंगे.

Latest News

World News