Trending News

B'dy Spcl: 90 साल के हुए 'द फ्लाइंग सिख', यहां देखें मिल्खा सिंह के 10 बेस्ट मोटिवेशनल विचार

[Edited By: Gaurav]

Wednesday, 20th November , 2019 12:30 pm

भारतीय दिग्गज धावक मिल्खा सिंह का आज 90वां जन्मदिन है. 'फ्लाइंग सिख' के नाम से मशहूर मिल्खा सिंह की पूरी दुनिया दीवानी है. मिल्खा ने एशियन गेम्स में 4 गोल्ड मेडल और कॉमनवेल्थ गेम्स में एक गोल्ड जीते थे. मिल्खा का जीवन संघर्ष भरा रहा. उन्हें जेल भी जाना पड़ा और यातनाएं भी झेलीं.

पढ़िए मिल्खा सिंह के जीवन के बारे में....

मिल्खा सिंह का जन्म 20 नवंबर 1929 को पाकिस्तान में हुआ था. भारत और पाकिस्तान के बंटवारे के दौरान उनके माता-पिता की मौत हो गई थी. इसके बाद वो भारतीय सेना में एथलीट के रूप में शामिल हो गए थे. मिल्खा सिंह की निजी जिंदगी भी काफी प्रेरणा देने वाली है. तीन बेटियों और एक बेटे के पिता मिल्खा ने 1999 में बैटल ऑफ टाइगर हिल में शहीद होनेवाले हवलदार विक्रम सिंह के बेटे को गोद लिया था. मिल्खा ने उस बच्चे की पढ़ाई-लिखाई और परवरिश का पूरा खर्चा देने का ऐलान किया. आजादी के बाद उन्होंने पंजाब में काफी परेशानियां झेलीं। इसके बाद वह दिल्ली आए, जहां कुछ समय तक अपनी बहन के परिवार के साथ रहे. एक बार बिना टिकट यात्रा करने के कारण उन्हें जेल भी काटनी पड़ी थी. मिल्खा की बहन ने तब उन्हें जेल से निकाला जिसके कारण उन्हें अपने जेवर बेचने पड़े थे.

मिल्खा के जीवन पर केंद्रित बॉलीवुड फिल्म भी बनी है. साल 2013 में 'भाग मिल्खा भाग' नाम से बनी फिल्म में मिल्खा का किरदार फरहान अख्तर ने निभाया था. इस फिल्म को दर्शकों का अच्छा रिस्पॉन्स मिला और यह फिल्म 100 करोड़ क्लब में भी शामिल हुई.


पाक पीएम ने दिया था 'फ्लाइंग सिख' नाम

मिल्खा की प्रतिभा और रफ्तार का यह जलवा था कि उन्हें पाकिस्तानी प्रधानमंत्री फील्ड मार्शल अयूब खान ने ही 'द फ्लाइंग सिख' का नाम दिया था.

मिल्खा सिंह के प्रेरणादायक विचार....

1. हाथ की लकीरों से जिंदगी नहीं बनती, अजम हमारा भी कुछ हिस्सा है जिंदगी बनाने का.

2. जिस इंसान के अंदर will power है, जिस इंसान के अंदर Hard Work करने का माद्दा है, जिस इंसान के अंदर discipline है, कैरेक्टर है. वो इंसान.. जो है कि जमीन से उठकर आसमान को छू सकता है. और वह इंसान zero से hero बन सकता है.

3. मैंने दुनिया भर में 80 दौड़ में भाग लिया जिसमें से 77 दौड़ो को जीता है.

4. मैं, जितना है वो सारा क्रेडिट आर्मी को देना चाहता हूं. आज देश का नाम ऊंचा है सारी दुनिया में अगर आज मिल्खा सिंह का नाम है, तो वह क्रेडिट जो है कि आर्मी को जाता है.

5. जब भी कोई इंसान काम करता है वो पेट के लिए करता है.

6. हालात इंसान को डाकु बना देते हैं.

7. Country की इज्जत या किसी दूसरे की चीज इज्जत बाद में आती है, जब तक कि इंसान का पेट भरा ना हो.

8. पेट ही सबकुछ करवाता है, तभी जाकर के इंसान की जिंदगी बनती है.

9. आज मिल्खा सिंह का नाम इस दुनिया में है.. It is because of hard work,It is because of willpower... बाकी किसी चीज की वजह से नहीं है.

10. अगर आपको Physically fit रहना है तो आपको जबान के उपर पर कंट्रोल करना होगा.

(जबान इंसान को दो तरह से मारती है। एक बोलने में, एक खाने में. अगर आप किसी से बुरा बोलोगे तो मार खाओगे. अगर जबान का टेस्ट है... जब आप खाना खाते हो तो पेट है जो की एक Store है. Store के अंदर ज्यादा चीजें डालोगे तो उससे गैस बनेगी, Heart trouble होगा, आपको Suger होगा, तो इसलिए मैं कहता हूं की कम खाओ exercise करो)

Latest News

World News