Trending News

'GST देश का कानून, पालन करना ही पड़ेगा', बिजनेसमैन्स, एंटर प्रेन्योर्स और सीए की बैठक में वित्त मंत्री ने दिए कई बड़े बयान

[Edited By: Gaurav]

Saturday, 12th October , 2019 02:23 pm

पुणे में हुई बिजनेसमैन्स, एंटर प्रोन्योर्सऔर सीए की अहम बैठक में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कई बड़े बयान दिए हैं. वित्त मंत्री ने व्यापारियों से कहा कि आपको तकलीफ हो सकती है लेकिन जीएसटी अब देश का कानून है. सभी को इसका पालन करना पड़ेगा.

उन्होंने कहा कि काफी लंबे समय बाद संसद में कई दल और राज्य विधानसभाओं ने मिलकर काम किया और इस कानून को लेकर आए. उन्होंने कहा, ‘मुझे पता है कि आप अपने अनुभव के आधार पर यह बात कर रहे हैं, लेकिन अचानक हम यह नहीं कह सकते कि यह ‘कितना खराब ढांचा’ है. सीतारमण ने उद्योग के लोगों, चार्टर्ड अकाउंटेंट, कंपनी सचिवों और वित्तीय क्षेत्र के गई अन्य अंशधारकों के साथ चर्चा की.

जीएसटी को हो चुके हैं दो साल

जीएसटी को लागू किए सिर्फ दो साल हुए हैं. मैं कामना करती हूं कि पहले दिन से ही यह ढांचा संतोषजनक रहना चाहिए था. उन्होंने कहा, ''मैं चाहती हूं कि सभी अंशधारक जीएसटी के बेहतर अनुपालन के लिए कुछ समाधान दें. हम सिर्फ इसकी आलोचना नहीं करें, इसमें कुछ खामियां हो सकती हैं. इससे आपको कुछ परेशानी हुई हो सकती है, लेकिन मुझे माफ करें यह कानून है.''


निर्मला सीतारमण ने स्वीकार किया है कि मौजूदा रूप में गुड्स एंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) में कुछ खामियां हो सकती हैं. उन्होंने टैक्स प्रोफेशनल्स से कहा कि वे इसे कोसना छोड़कर बेहतर बनाने के बारे में सुझाव दें. वित्त मंत्री टैक्सेशन प्रोफेशनल्स द्वारा जीएसटी को लेकर जताई गई चिंता पर प्रतिक्रिया दे रही थीं. उन्होंने कहा कि उद्योग जीएसटी के लागू करने के तरीके पर सरकार को कोस रहा है.


जीएसटी कलेक्शन में गिरावट

जीएसटी कलेक्शन सितंबर 2019 में घटकर 91,916 करोड़ रुपये रह गया. यह अगस्त की तुलना में 6286 करोड़ रुपये कम है. अगस्त में जीएसटी कलेक्शन 98,202 करोड़ रुपये रहा था. पिछले 19 माह में यह सबसे कम कलेक्शन रहा है. सरकारी आंकड़ों में यह जानकारी दी गई है. जीएसटी कलेक्शन आर्थिक गतिविधियों का संकेतक है और इसमें कमी का मतलब अर्थव्यवस्था का सुस्त होना है. हालांकि, जानकारों को उम्मीद है कि त्योहारी सीजन में मांग बढ़ने की वजह से अक्टूबर में जीएसटी कलेक्शन का आंकड़ा बेहतर रहेगा.

Latest News

World News