Trending News

बुजुर्ग अपनी प्रॉपर्टी अपने नाम पर ही सुरक्षित रखें, यहां पढ़ें फाइनेंशियल एक्सपर्ट की राय

[Edited By: Gaurav]

Saturday, 7th December , 2019 05:31 pm

बहू और दामाद को बुजुर्गों की सेवा के लिए जिम्मेदार बनाने का फैसला सिर्फ़ क़ानून बनाने तक सीमित न रहे इसलिए वरिष्ठ नागरिकों को अपनी सारी जमा-पुंजी एवं प्रॉपर्टी के सारे दस्तावेज़ अपने नाम पर सुरक्षित रखना ज़रुरी हैं। बुजुर्गों को अपने जीवन भर की मेहनत से कमाई जमा पुंजी प्रॉपर्टी को ‘नॉमिनेशन’ अथवा ‘विल’ के मार्फ़त अपने वारिसदार के नाम करनी चाहिए। जब तक वे ख़ुद जीवित हैं तब तक उसे स्वयं तथा उनपर आश्रित पत्नि के नाम करने के बाद ही बेटे-बेटी या बहु-दामाद के नाम अपनी इच्छानुसार वासियतनामा बना कर ही बांटना चाहिए।

Image may contain: 1 person, text

जीवित रहते हुए ही अपनी प्रॉपर्टी का बटवारा कर देने पर बुज़ुर्गों को मजबूरन बच्चों पर निर्भर रहते हुए मासिक गुज़ारा भत्ता के लिए क़ानून का सहारा लेना पड़ता है। बहू और दामाद को बुजुर्गों की सेवा के लिए जिम्मेदार बनाने का फैसला सिर्फ़ क़ानून बनाने तक सीमित न रहे इसलिए वरिष्ठ नागरिकों को अपनी सारी जमा-पुंजी एवं प्रॉपर्टी के सारे दस्तावेज़ अपने नाम पर सुरक्षित रखना भी ज़रुरी है।

Image may contain: 1 person, text


बुजुर्गों को अपने जीवन भर की मेहनत से कमाई जमा पुंजी प्रॉपर्टी को ‘नॉमिनेशन’ अथवा ‘विल’ के मार्फ़त अपने वारिसदार के नाम करनी चाहिए। जब तक वे ख़ुद जीवित हैं तब तक उसे स्वयं तथा उनपर आश्रित पत्नि के नाम करने के बाद ही बेटे-बेटी या बहु-दामाद के नाम अपनी इच्छानुसार वासियतनामा बना कर ही बांटना चाहिए। जीवित रहते हुए ही अपनी प्रॉपर्टी का बंटवारा करने से बुज़ुर्गों को मजबूरन बच्चों पर निर्भर रहते हुए मासिक गुज़ारा भत्ता के लिए क़ानून का सहारा लेना पड़ सकता हैं।

भरतकुमार सोलंकी, वित्त विशेषज्ञ

Latest News

World News