Trending News

कभी टॉयलेट और सड़कों पर काटी रातें, आज इस सफल बिजनेसमैन की लाइफ पर बन गई फिल्म

[Edited By: Gaurav]

Wednesday, 18th December , 2019 05:16 pm

इस शख्स की किस्मत में बचपन से दुख के सिवा और कुछ नहीं था. बचपन में ही उसके मां बाप अलग हो गये. मां ने जिस शख्स से दूसरी शादी की वह उसे और उसके बच्चों को बुरी तरह मारता था. सौतेले पिता द्वारा लगाए गये झूठे आरोपों के कारण उसकी मां को दो बार जेल जाना पड़ा. 

कोई ऐसा नहीं था, जो इनकी मदद करने के लिए आगे आता. मां को जेल होने की वजह से उस शख्स को जो तब मात्र आठ साल का था एक अनाथालय में रहना पड़ा. बड़ा होने के बाद भी उसकी बुरी किस्मत ने उसका पीछा नहीं छोड़ा. उसकी बीवी उसे छोड़ गयी.

सिर्फ़ इसलिए क्योंकि उसके पास ढंग का कोई काम नहीं था. 

सार्वजनिक शौचालय में बितानी पड़ीं रातें 

वह एक मेडिकल मशीन का सेल्स मैन था, आर्थिक हालत दिन प्रतिदिन बिगड़ती जा रही थी. उसे उसके किराए के घर से निकाल दिया गया. अपने बेटे के साथ उस शख्स को सस्ते होटल, पार्क, एयरपोर्ट यहां तक कि सार्वजनिक शौचालय तक में रातें बितानी पड़ीं.

उसे एक रात छत के नीचे सोने के लिए पूरा दिन एक ब्रोकरेज फर्म की लंबी लाइन में खड़ा होना पड़ता था. हर जगह हाथ पैर मारने के बाद उसे एक स्टॉक ब्रोकरेज फर्म में नौकरी मिल गयी. नौकरी पक्की नहीं थी. यहां का स्थायी कर्मचारी बनने के लिए उसे लाइसेंस एग्जाम पास करना था. 

साल 1982 के इस तरह बदली जिंदगी

1982 में उसने यह एग्जाम पास कर लिया. बस यहां से उसकी सारी दुख तकलीफें धीरे-धीरे खत्म होने लगीं. 1987 तक इस शख्स ने अपनी खुद की ब्रोकरेज फर्म खड़ी कर ली, जिसमें उसकी अकेले की 75% साझेदारी थी. 2006 में इस शख्स ने अपनी इस फर्म के मामुली शेयर मल्टी मिलियन डॉलर में बेचे थे. यह शख्स कोई और नहीं क्रिस्टोफर गार्डनर है.

वही क्रिस्टोफर, जो इंटरनेशनल होल्डिंग्स के संस्थापक और सीईओ हैं. इनके जीवन पर हॉलीवुड की एक बहुचर्चित फिल्म भी बन चुकी है, जिसका नाम है 'Pursuit of Happiness'. क्रिस्टोफर जिस स्थिति से गुज़रे उस स्थिति में कई लोग आत्महत्या कर लेते हैं, लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और आज वह पूरी दुनिया के लिए एक मिसाल हैं.

Latest News

World News