Trending News

बिहार विधान परिषद चुनाव की अधिसूचना 18 जून को जारी होगी

[Edited By: Rajendra]

Monday, 15th June , 2020 06:28 pm

देश भर में कोरोना वायरस तेजी से अपना कहर बरपा रहा है। जिसको देखते हुए बिहार विधान परिषद की रिक्त पड़ी नौ सीटों पर होने वाले चुनाव को टाल दिया गया था। चुनाव आयोग की ओर से जानकारी दी गई है कि इन सीटों पर चुनाव अब 6 जुलाई को होंगे।

चुनाव आयोग की तरफ से जारी बयान के मुताबिक, बिहार विधान परिषद के नौ सदस्यों का कार्यकाल 6 मई को समाप्त हो गया था। आयोग ने तीन अप्रैल को घोषणा की थी कि कोरोना वायरस महामारी और पूरे देश में जारी लॉकडाउन के कारण चुनाव टाल दिए गए हैं। बयान में बताया गया कि चुनाव की अधिसूचना 18 जून को जारी होगी और चुनाव छह जुलाई को होंगे।

चुनाव समाप्त होने के बाद तय नियमों के मुताबिक छह जुलाई की शाम को ही मतगणना होगी। बिहार विधानसभा के सदस्य नौ नए विधान पार्षदों का चुनाव करेंगे। विधान परिषद सदस्यों का चुनाव सामान्य तौर पर चार तरह के मतदाता करते हैं -- विधायक, स्नातक, शिक्षक और स्थानीय प्राधिकरणों के सदस्य।

इस साल के आखिरी तक बिहार में विधानसभा चुनाव होने है। मालूम हो कि बिहार में 243 विधानसभा सीटें है। सभी पार्टियां ज्यादा से ज्यादा सीटों पर चुनाव लड़ना चाहती है। इसके लिए दांवपेंच भी शुरू हो गया है। उधर बिहार विधानसभा चुनाव वैसे समय होने के आसार हैं जब देश में कोरोना वायरस के कारण लोगों का जीना दुभर हो गया है। खास करके प्रवासी मजदूरों की समस्या लॉकडाउन के दौरान सामने आई है। जिसमें बिहार के लाखों प्रवासी मजदूरों को पलायन किसी त्रासदी से कम नहीं रहा है। देखना है कि कौन-सी पार्टी जनता के इस नब्ज को दबाकर उसे वोट में तब्दील करती है। बहरहाल बीजेपी राज्य के 72,400 मतदान बूथों के प्रत्येक बूथ पर 50 लोगों को एक जगह एकत्रित करने की योजना पर काम भी कर रही है।

मालूम हो कि बिहार विधानसभा में 243 सीट है। जिसके लिये चुनाव इस साल के आखिरी महीनें में कराया जा सकता है। जिसको लेकर कोरोना काल में भी राजनीतिक गतिविधि तेज हो गई है। दरअसल इन 32 सीटों में से 16 सीटों पर राजद का कब्जा है,वहीं 7 सीटों पर कांग्रेस के विधायक है। जबकि 4 सीटों पर सत्ताधारी पार्टी जदयू का कब्जा है। तो 3 सीट पर बीजेपी के फिलहाल विधायक है। माना जा रहा है कि औवैसी की पार्टी AIMIM के 32 सीटों पर चुनाव लड़ने के ऐलान से मुस्लिम वोटों का बंटवारा हो सकता है। जिसका लाभ बीजेपी और जदयू गठबंधन को हो सकता है। तो वहीं राजद और कांग्रेस को नुकसान उठाना पड़ सकता है।

Latest News

World News