Trending News

युद्ध विराम को तैयार अजरबैजान और आर्मेनिया

[Edited By: Rajendra]

Tuesday, 10th November , 2020 03:24 pm

आर्मेनिया और अजरबैजान ने मंगलवार तड़के एक समझौते की घोषणा की, जिसमें रूस के साथ हस्ताक्षरित एक समझौते के तहत अजरबैजान के नागोर्नो-करबाख क्षेत्र पर लड़ाई को रोकना है जो लगभग 2,000 रूसी शांति सैनिकों और क्षेत्रीय रियायतों की तैनाती का आह्वान करता है।

नागोर्नो-काराबाख आर्मेनिया द्वारा समर्थित जातीय अर्मेनियाई ताकतों के नियंत्रण में रहा है, क्योंकि 1994 के ट्रूस ने एक अलगाववादी युद्ध को समाप्त कर दिया था जिसमें अनुमानित 30,000 लोगों की मौत हो गई थी। तब से छिटपुट झड़पें हुईं और 27 सितंबर को पूर्ण पैमाने पर लड़ाई शुरू हुई।

1,960 रूसी शांति सैनिकों को पांच साल के जनादेश के तहत इस क्षेत्र में तैनात किया जाना है। अजरबैजान ने आर्मेनिया की सीमा पर एक रूसी सैन्य हेलीकॉप्टर को मार गिराया, जिसके बाद रूस के राष्‍ट्रपति व्‍लादिमीर पुतिन काफी गुस्‍से में हैं। इसको देखते हुए अजरबैजान ने रूस से माफी मांगी है।

मास्को में रक्षा मंत्रालय ने कहा कि अजरबैजान ने आर्मेनिया सीमा के पास में एक हेलीकॉप्टर को गोली मार दी थी, जिसमें चालक दल के दो सदस्य मारे गए थे और एक तीसरा घायल हो गया।

विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, "अजरबैजान ने इस घटना पर दुख जताया है और माफी मांगी है। उसने इस कदम को एक दुर्घटना बताया और मास्को के खिलाफ कोई उसका कोई ऐसा उद्देश्य नहीं था।"

विदेश मंत्रालय ने कहा कि हेलीकॉप्टर अंधेरे के दौरान कम ऊंचाई पर आर्मेनिया और अजरबैजान के बीच राज्य की सीमा के करीब उड़ रहा था। बयान में कहा गया है, "रूसी वायु सेना के हेलीकॉप्टरों को पहले इस क्षेत्र में नहीं देखा गया था।"

बाकू ने कहा कि अर्मेनियाई अलगाववादियों के साथ लड़ाई के बीच अज़रबैजानी बलों ने बढ़े हुए तनाव के कारण फायरिंग का फैसला किया। रूस के एक्‍शन से डरे अज़रबैजानी ने इस हादसे में मारे गए लोगों के परिवारों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की और कहा कि वह मुआवजा देने के लिए तैयार है।

यह घटना अजरबैजान और अर्मेनियाई अलगाववादियों के बीच नागोर्नो-कराबाख के विवादित क्षेत्र पर लड़ाई के दौरान हुई।

Latest News

World News