Trending News

पत्रकार के खिलाफ छिड़ी जंग, 49.7K लोगों ने लिखा #ArrestDeepakChaurasia, जानिए क्या है वजह

[Edited By: Gaurav]

Friday, 15th November , 2019 06:31 pm

मशहूर टीवी पत्रकार दीपक चौरसिया सोशल मीडिया पर सुबह से ही ट्रोल किए जा रहे हैं. इसका कारण है आसाराम को लेकर किया गया उनका एक ट्वीटर . हजारों लोग दीपक चौरसिया को गिरफ्तार करने की मांग कर रहे हैं. सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर पर शुक्रवार दोपहर से ही #ArrestDeepakChaurasia ट्रेंड कर रहा है. इस  हैशटैग पर अबतक 49.7 हजार से ज्यादा लोग कमेंट कर चुके हैं. वहीं एक धड़ा दीपक के पक्ष में भी बातें कर रहा है जिसकी वजह से #IndiaWithDeepakChaurasia भी ट्रेंड हो रहा है. 

जानिए क्या है इसका कारण....

आसाराम बापू को जेल की सलाखों के पीछे पहुंचाने में अहम किरदार निभाने वाले चौरसिया को आसाराम बापू के समर्थकों द्वारा निशाना बनाया जा रहा है. हालांकि, उन पर शाब्दिक हमले पहले भी होते रहे हैं, उनके परिवार को धमकियां भी मिली हैं, लेकिन इस बार सोशल मीडिया पर इस अभियान को जबरदस्त तरीके से चलाया जा रहा है. सोशल मीडिया पर ‘अरेस्ट दीपक चौरसिया’ ट्रेंड कर रहा है. बापू समर्थक उनकी गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं. ये बात अलग है कि दीपक पर इसका कोई असर नहीं है. उन्होंने साफ कर दिया है कि यदि आसाराम बापू को जेल भिजवाने के लिए उन्हें जेल भी जाना पड़ा तो वह इसके लिए तैयार हैं.

14 नवंबर को दीपक ने अपने ट्विटर हैंडल से लिखा था- जोधपुर कोर्ट से उम्रकैद की सजा पा चुके “फर्जी बापू और फर्जी भगवान आसाराम” जैसे लोगों को सजा दिलाने के लिए अगर मुझे जेल भी जाना पड़े तो उसके लिए मैं तैयार हूं....

 दीपक चौरसिया के खिलाफ कुछ साल पहले आसाराम बापू के एक भक्त ने एफआईआर दर्ज कराई थी। इस मामले की सुनवाई के बाद एकदम से बापू समर्थकों का गुस्सा फूट पड़ा है और उन्होंने सोशल मीडिया पर हमले शुरू कर दिए हैं।

आसाराम समर्थकों द्वारा पूछा जा रहा है कि जब वरिष्ठ पत्रकार दीपक चौरसिया के खिलाफ पास्को कानून के तहत मुकदमा दर्ज है तो फिर उन्हें गिरफ्तार क्यों नहीं किया जा रहा?

अनिशा जैन ने लिखा- Deepak Chaurasia is charged with the POCSO Act and there is strong evidence against him, then why does the police not arrest him?

यह मामला उस समय का है जब दीपक ‘इंडिया न्यूज’ में थे. आरोपों के मुताबिक, टीआरपी बढ़ाने के लिए दीपक ने गुरुग्राम निवासी आसाराम के भक्त के निजी विडियो से छेड़छाड़ कर चैनल पर दिखाया. विडियो के माध्यम से परिवार की 10 वर्षीय बच्ची और उसकी ताई के चरित्र को कलंकित करने का प्रयास किया गया. यह भी कहा गया है कि इंडिया न्यूज चैनल पर प्रसारित कार्यक्रम ‘सलाखें’ के प्रदर्शन में तथ्यों को तोड़मरोड़कर प्रस्तुत किया गया. कुछ आपत्तिजनक क्लिपिंग दिखाई गईं, जो कि कानूनन अपराध है. इन आरोपों के बाद दीपक के खिलाफ गुरुग्राम पुलिस ने मामला दर्ज किया, जिसकी सुनवाई के बाद एक बार फिर से चौरसिया की गिरफ्तारी की मांग उठने लगी है.

हालांकि, दीपक चौरसिया के समर्थन में भी आवाज उठ रही है.पहले ‘#arrestdeepakchaurasia’ टॉप 10 में ट्रेंड कर रहा था, अब ‘#indiawithdeepakchaurasia’ ऊपर आ गया है.

‘एनडीटीवी इंडिया’ के अखिलेश शर्मा और ‘आजतक’ के रोहित सरदाना सहित कई पत्रकारों ने दीपक के समर्थन में ट्वीट किए. अखिलेश ने लिखा , ‘वरिष्ठ पत्रकार दीपक चौरसिया ने कई हाईप्रोफाइल मामलों में पीड़ितों को न्याय दिलाया है. उन्हें अपने काम के लिए निशाना नहीं बनाया जाना चाहिए’.

वहीं, रोहित ने ट्वीट किया है, ‘पत्रकार अपना काम करता है, कानून अपना. उसके लिए घर/परिवार को धमकियां देना या सोशल मीडिया पर रोज ट्रेंड चलवा कर गालियां दिलवाना कौन सी न्याय की लड़ाई है’?

'एबीपी न्यूज' की एंकर रूबिका लियाकत ने भी दीपक चौरसिया के समर्थन में ट्वीट किया है. उन्होंने लिखा- जब आप दोषियों को बचाने के लिये पत्रकार और उनके परिवार को टारगेट करते है तो आप क्रांतिकारी नहीं हैं, आपको इलाज की जरुर की जरुरत है।

वहीं, 'आजतक' की मशहूर एंकर चित्रा त्रिपाठी ने भी दीपक चौरसिया के समर्थन में आते हुए विरोधियों पर निशाना साधा  और लिखा- फ़र्ज़ी बाबाओं का चेहरा देश के सामने है, कई जेल के अंदर हैं.उसमें मीडिया का बहुत योगदान है. ईमानदारी से काम करने वाले पत्रकारों को तथाकथित बाबाओं के भक्तों द्वारा निशाना बनाना बेहद शर्मनाक..

Latest News

World News