Trending News

अमेरिका ने दिया चीन को झटका, इन उत्‍पादों पर लगाया प्रतिबंध

[Edited By: Rajendra]

Tuesday, 15th September , 2020 12:17 pm

अमेरिका और चीन के बीच वैश्विक महामारी कोरोना वायरस को लेकर शुरू हुआ तनाव अभी भी बरकरार है। इस बीच अमेरिका ने चीन के पांच उत्पादों पर प्रतिबंध लगा दिया है। इसके साथ ही अमेरिका ने कई चीनी कंपनियों के सामान के आयात पर प्रतिबंध लगा दिया है।

चीन के खिलाफ कार्रवाइयों में अमेरिका ने एक और कदम उठाया है। जबरन मजदूरी का हवाला देते हुए अब वहां से आने वाले कॉटन, हेयर प्रोडक्ट, कंप्यूटर कंपोनेंट और कुछ टेक्सटाइल को प्रतिबंधित कर दिया गया है। चीन के शिनजियांग प्रांत में रहने वाले उइगर समुदाय के लोगों से जबरन मजदूरी करवा कर बन रहे प्रोडक्ट पर अमेरिका की ओर से यह रोक लगाई गई है।

इस प्रतिबंंध के फैसले पर अमेरिका ने बताया कि चीन की सरकार शिनजियांग में रहने वाले उइगर समुदाय का मानवाधिकार हनन कर रही है, इनका शोषण किया जा रहा है और इसीलिए यहां तैयार किए गए प्रोडक्ट उत्पादों को लेकर ये फैसला लिया गया है।

अमेरिका को उत्तर-पश्चिम चीन में जातीय अल्पसंख्यकों पर एक व्यापक कार्रवाई के तहत हिरासत में लिए गए लोगों से मजदूरी करवाने का संदेह है। जारी किए गए बयान के अनुसार, यूएस कस्टम्स एंड बॉर्डर प्रोटेक्शन ने पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना के उत्पादों के संबंध में पांच रोक जारी आदेश जारी किए हैं। अमेरिकी गृह सुरक्षा विभाग का कहना है कि चीन शिनजियांग उइगर स्वायत्त क्षेत्र में श्रमिकों को जबरन नियुक्त करता है। इसलिए, उस क्षेत्र में उत्पादित वस्तुओं पर प्रतिबंध लगा दिया जाता है।

अमेरिकी गृह सुरक्षा विभाग ने कहा कि शिनजियांग उइगर स्वायत्त क्षेत्र में चीनी सरकार उइगर लोगों और अन्य जातीय और धार्मिक अल्पसंख्यकों के मानवाधिकारों का लगातार उल्लंघन कर रही है। झिंजियांग क्षेत्र में कपड़े, सूती उत्पाद, कंप्यूटर पार्ट्स और बच्चों से संबंधित उत्पादों को शिप करने वाली कंपनियों के नाम यूएस कस्टम्स और बॉर्डर प्रोटेक्शन के क्रम में शामिल हैं जिनके उत्पादों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

उइगर मुसलमानों को डिटेंशन कैंप में भेजने, उनके धार्मिक गतिविधियों में हस्तक्षेप के अलावा उनके शोषण को लेकर दुनिया भर में चीन की किरकिरी हो रही है । उल्लेखनीय है कि अमेरिका ने चीन के शिनजियांग प्रांत में उइगर मुस्लिमों और दूसरे अल्पसंख्यक समुदायों के शोषण और उत्पीड़न मामले पर रोशनी डालने के लिए नया वेबपेज जारी किया है।

अमेरिकी विदेश विभाग ने एक ट्वीट में कहा, 'हमने एक नया वेबपेज जारी किया है, जिसके जरिये शिनजियांग में रहने वाले उइगरों और दूसरे अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों के खिलाफ चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के अत्याचारों को सामने लाया जाएगा। अमेरिका इस तरह के मानवाधिकार हनन खिलाफ वैश्विक लड़ाई की अगुआई करने के लिए प्रतिबद्ध है।' यह वेबपेज ऐसे समय जारी किया गया है, जब दक्षिण चीन सागर और कोरोना महामारी को लेकर अमेरिका और चीन के बीच तनातनी बढ़ गई है।

चीनी सरकार न सिर्फ इनकी निगरानी करती है बल्कि मानवाधिकारों का हनन कर इन पर कई तरह की सख्त पाबंदियां भी लगा रखी हैं। लाखों उइगरों को हिरासत में भी रखा गया है।

Latest News

World News