Trending News

बिकरू कांड के मुख्य आरोपितों में एक अमर दुबे की सास को चुनाव लड़ाने की होड़-सपा-कांग्रेस ने दिये ऑफर

[Edited By: Vijay]

Tuesday, 25th January , 2022 12:52 pm

बिकरू कांड के मुख्य आरोपितों में एक अमर दुबे की सास को चुनाव लड़ाने की होड़ राजनीतिक पार्टियों के बीच शुरू हो गई है । कांग्रेस जहां उन्हें कल्याणपुर से टिकट देना चाह रही हैं वहीं सपा उन्हें गोविंद नगर से मैदान में उतारने की तैयारी में है। कांग्रेस दिल्ली में तो सपा उन्हें लखनऊ में पार्टी की सदस्यता दिलाने की तैयारी कर रही है। पार्टी सूत्र बताते हैं कि जल्द ही इस पर अंतिम निर्णय हो जाएगा।

बिकरू कांड के मुख्य आरोपित विकास दुबे के भांजे अमर दुबे की सास गायत्री तिवारी पनकी रतनपुर में रहती हैं। गायत्री आजकल राजनीतिक पार्टियों कांग्रेस और सपा के निशाने पर हैं। दरअसल दोनों ही पार्टियां उन्हें अपनी पार्टी का चेहरा बनाकर चुनाव लड़ाना चाहती हैं। इसके लिए दोनों पार्टियों में उन्हें पार्टी की सदस्यता दिलाने की होड़ मची हुई हैं। कांग्रेस ने उन्हें कल्याणपुर से पार्टी का चेहरा बनाने का आश्वासन दिया था इसी बीच सोमवार को सपा के पूर्व नगर महामंत्री वरुण मिश्रा के कमला नगर स्थित कार्यालय में गायत्री तिवारी को बुलाया गया जहां सपा नेता मेजर आशीष चतुर्वेदी ने उन्हें गोविंदनगर से टिकट देने का प्रस्ताव दिया। गायत्री के मुताबिक उनके लिए बेटी को इंसाफ दिलाना प्राथमिकता है। वह चुनाव नहीं लड़ना चाहती हैं लेकिन सपा के पदाधिकारियों ने आश्वासन दिया है कि सरकार बनने के एक माह भीतर उनकी बेटी जेल से बाहर होगी।

इसलिए वह चुनाव लड़ने को तैयार हैं। बता दें कि कांग्रेस के पदाधिकारी भी कुछ दिनों पहले गायत्री से उनके आवास पर मिले थे। उन्हें कल्याणपुर से चुनाव लड़ने का प्रस्ताव दिया गया था। सोमवार को दिल्ली ले जाकर पार्टी की सदस्यता दिलायी जानी थी इससे पहले सपा ने उन्हें विश्वास में लेकर गोविंदनगर से चुनाव लड़ाने का प्रस्ताव दे दिया। दरअसल राजनीतिक पार्टियों का मानना है कि बिकरू कांड में आरोपित बनाई गई गायत्री तिवारी की बेटी को पुलिस ने निर्दोष होने के बावजूद भी फंसा दिया। बिकरू कांड के बाद हुई इस घटना से ब्राह्मण नाराज हैं ऐसे में गायत्री तिवारी के साथ लोगों की संवेदनाएं होंगी जो पार्टी को चुनाव में फायदा दिला सकती है ।

यह था बिकरू कांड 

बिकरू गांव में गैंगस्टर विकास दुबे ने दो जुलाई 2020 की आधी रात अपने गैंग के साथ डीएसपी और एसओ समेत आठ पुलिस कर्मियों की हत्या कर दी थी। हत्याकांड के बाद पुलिस ने विकास व उसके भांजे अमर दुबे समेत छह लोगों का इनकाउंटर किया था जबकि 45 आरोपित जेल में हैं। घटना से ठीक सात दिन पहले अमर दुबे की शादी गायत्री तिवारी की बेटी से हुई थी। बिकरू कांड के बाद पुलिस ने अमर दुबे की पत्नी को भी आरोपित बनाया था जो अभी भी जेल में है। गायत्री का मानना है कि उनकी बेटी को फर्जी फंसाया गया है जिसके बाद राजनीतिक पार्टियों ने उन्हे इंसाफ दिलाने का आश्वासन दिया था। 

जेल में बंद ख़ुशी दुबे की मां गायत्री तिवारी को समाजवादी पार्टी की तरफ से आगामी विधानसभा चुनाव में टिकट का ऑफर दिया गया है. सपा ने उन्हें कानपुर की गोविन्दनगर विधानसभा सीट से पार्टी के सिंबल पर चुनाव लड़ने का प्रस्ताव दिया है. खुशी दुबे की मां ने चुनाव लड़ने के प्रस्ताव पर अपनी हामी भी भर दी है. उन्होंने कहा कि वैसे तो अन्य दलों से भी प्रस्ताव मिला, लेकिन उन्हें अखिलेश यादव पर भरोसा है. गायत्री तिवारी ने मीडिया से बातचीत में कहा कि उनकी पहली प्राथमिकता जेल में बंद अपनी बेटी बाहर निकालना है. समाजवादी पार्टी ने भरोसा दिलाया है कि अगर उनकी सरकार बनती है तो एक महीने के भीतर खुशी दुबे को जेल से बाहर निकाला जाएगा. गायत्री तिवारी ने कहा कि समाजवादी पार्टी की तरफ से उन्हें चुनाव लड़ने का प्रस्ताव भी मिला है और वह इसके लिए तैयार भी हैं. गौरतलब है कि इससे पहले कांग्रेस की तरफ से भी उन्हें चुनाव लड़ने का प्रस्ताव मिल चुका है.

 

Latest News

World News